Oxford Vaccine ऑक्सफोर्ड वैक्सीन का ट्रायल रोका गयाविश्व इलेक्ट्रॉनिक खेल खेल, ब्रिटेन में टीका लेने वाला व्यक्ति बीमारविश्व इलेक्ट्रॉनिक खेल खेल, जानें कितनी सेफ है यह वैक्सीन

Coronavirus Vaccine: कोविड-19 इंफेक्शन की वैक्सीन का इंतज़ार पूरी दुनिया में किया जा रहा है। कुछ महीनों से ऐसी उम्मीद जगी थी कि जल्द ही कोरोना वायरस महामारी का मुकाबला करने के लिए वैक्सीन (Coronavirus Vaccine) तैयार कर ली जाएगा। लेकिनविश्व इलेक्ट्रॉनिक खेल खेल, इस उम्मीद और कोरोना वायरस वैक्सीन बनाने की दिशा में की जा रही कोशिशों में जल्द सफलता मिलना थोड़ा मुश्किल लग रहा है। दरअसलविश्व इलेक्ट्रॉनिक खेल खेल, कोरोना वायरस वैक्सीन के सबसे प्रबल दावेदारों में से एक ऑक्‍सफर्ड की वैक्‍सीन एस्ट्राजेनेका ( AZD1222) के फाइनल फेज के ट्रायल को रोक दिया गया है। मिली जानकारी के अनुसार, wii हाथ में खेल ह्यूमन ट्रायल्स के दौरान एक व्यक्ति को यह टीका लगाया गया था, जिसकी तबियत बिगड़ गयी है। इस वॉलिंटियर के शरीर में गम्भीर साइड-इफेक्ट्स देखने को मिले हैं और इसी के चलते ट्रायल को रोक दिया गया है। (Oxford Covid-19 Vaccine Update) Also Read - 2024 से पहले नहीं मिल सकेगी ‘सभी को’ कोविड वैक्सीन, सीरम इंडिया प्रमुख ने दिया बयान

कोरोना वैक्सीन लेने के बाद बीमार पड़ा व्यक्ति

ऐसी जानकारी मिली है कि ब्रिटेन में ऑक्सफोर्ड कोविड-19 वैक्सीन के ह्यूमन ट्रायल के दौरान इस व्यक्ति को यह टीका लगाया गया था। गौरतलब है कि यह वैक्सीन ब्रिटेन की ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने ब्रिटिश-स्वीडिश कंपनी एस्ट्राजेनिका के साथ मिलकर तैयार किया है। इस वैक्‍सीन को दुनियाभर में कोरोना वायरस के इलाज के तौर पर बड़ी उम्मीद के साथ देखा जा रहा था। यहां तक कि भारत में भी इस टीके के ट्रायल आरंभ हो चुके थे। ब्रिटेन में एक व्यक्ति को यह वैक्सीन लगाने के बाद साइड-इफेक्ट्स दिखायी पड़े। जिसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती भी कराना पड़ा। (Oxford Vaccine Update) Also Read - कोरोना के मरीजों में दिखा एक और चौंका देने वाला लक्षण, अचानक प्लेटलेट्स की संख्या होने लगी कम

भारत में भी शुरु हो चुके थे ट्रायल्स

गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही ब्रिटेन के हेल्थ मिनिस्टर मैट हैकांक ने बयान दिया था कि उन्हें उम्मीद है कि साल 2021 की पहली तिमाही तक ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन ( (Oxford Vaccine) आ जाएगी। इस वैक्सीन के प्रबल दावेदार होने के कारण दुनिया के कई देशों से वैक्सीन की भारी खेप की मांग की जाने लगी, जिसमें भारत की तरफ से भी ऑर्डर दिए जा रहे थे। ब्रिटेन में ट्रायल्स के दौरान साइड-इफेक्ट्स दिखायी देने और व्यक्ति के बीमार होने पर कम्पनी द्वारा कहा गया है कि,विश्व इलेक्ट्रॉनिक खेल खेल यह एक साधारण स्थिति है। अब वॉलिंटियर के बीमार पड़ने की वजहों की जांच-पड़ताल की जाएगी और इस टीके की सेफ्टी सुनिश्चित करने की दिशा में कार्य भी किया जाएगा। Also Read - लॉकडाउन से 78 हजार लोगों की जान बचाना हुआ मुमकिन, 29 लाख कोविड मामलों से बच सका भारत

रूस ने तैयार कर ली कोविड-19 वैक्सीन की पहली बैच, जानें भारत में कबसे उपलब्ध होगा यह टीका

Published : September 9, 2020 10:36 am | Updated:September 9, 2020 11:46 am Read Disclaimer Comments - Join the Discussion च्यवनप्राश पर हुए कोरोना ट्रायल को मिली सफलता, जानें इसके हैरान करने वाले फायदेच्यवनप्राश पर हुए कोरोना ट्रायल को मिली सफलता, जानें इसके हैरान करने वाले फायदे च्यवनप्राश पर हुए कोरोना ट्रायल को मिली सफलता, जानें इसके हैरान करने वाले फायदे WHO चीफ की बड़ी चेतावनी, कोरोना के बाद अन्य महामारियों के लिए भी तैयार रहें विश्वWHO चीफ की बड़ी चेतावनी, कोरोना के बाद अन्य महामारियों के लिए भी तैयार रहें विश्व WHO चीफ की बड़ी चेतावनी, कोरोना के बाद अन्य महामारियों के लिए भी तैयार रहें विश्व ,,

上一篇:विश्व इलेक्ट्रॉनिक खेल खेल दिल्ली शहर में कोविड-19 केसेस में बढ़ोतरी। TheHealthSite Hindi    下一篇:विश्व इलेक्ट्रॉनिक खेल खेल कोरोना ट्रायल में सफल हुआ च्यवनप्राश, जानें इसके    

Powered by पोकर @2018 RSS地图 html地图